पिछले वित्त वर्ष (2017-18) में पर्यटन से देश को 1.89 लाख करोड़ रुपए (27 अरब डॉलर) की कमाई हुई। ट्यूरिज्म सेक्टर में 1.39 करोड़ लोगों को रोजगार मिला। देश की जीडीपी में ट्यूरिज्म सेक्टर का 5.7% योगदान रहा। पर्यटन राज्य मंत्री अल्फोंस के ने सोमवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि पिछले वित्त वर्ष में देश में कुल जितने लोगों को रोजगार मिला उसमें ट्यूरिज्म सेक्टर का 12.36% योगदान रहा। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ट्यूरिज्म में 7% ग्रोथ दर्ज की गई जबकि, भारत में यह 14% रही। दुनियाभर में पर्यटन से मिलने वाले रेवेन्यू में 5% जबकि भारत में 19.2% का इजाफा हुआ।
  • पर्यटन राज्य मंत्री ने बताया कि हर साल 2.5 करोड़ भारतीय पर्यटक विदेश घूमने जाते हैं। पर्यटन विभाग घरेलू सैलानियों के साथ ही एनआरआई को भी देश के पर्यटक स्थलों के प्रति आकर्षित करने की योजना बना रहा है।
  • पिछले वित्त वर्ष में चीन के 14.4 करोड़ सैलानी दूसरे देशों में घूमने गए। इस दौरान सिर्फ 2.47 लाख चाइनीज पर्यटक भारत आए। पर्यटन राज्य मंत्री ने कहा कि अगले 5 साल में यह लक्ष्य रहेगा कि चीन के 10% सैलानी भारत आएं। साल 2020 तक के लिए यह लक्ष्य 2 करोड़, 2025 तक 3 करोड़ और 2026 तक 4 करोड़ का रहेगा।
  • पर्यटन राज्य मंत्री ने कहा कि हमारा लक्ष्य 50 करोड़ बौद्ध सैलानियों को भारत के प्रति आकर्षित करना है। यह बुद्ध की जन्मस्थली है। यूपी और बिहार के बौद्ध स्थलों को जोड़ते हुए सर्किट बनाने की योजना भी है। चीन के लोगों को इसके प्रति जागरुक करने के लिए रोड शो किए जाएंगे। पर्यटन विभाग की ओर से हाल ही में जारी किए प्रमोशनल वीडियो को दुनियाभर में 20 करोड़ लोग देख चुके हैं।
  • पर्यटन राज्य मंत्री ने केरल में ट्यूरिज्म से रेवेन्यू में गिरावट आने पर अफसोस जताया। पिछले वित्त वर्ष में केरल के रेवेन्यू में 18% गिरावट आई थी। इस दौरान तमिलनाडु में सबसे ज्यादा घरेलू पर्यटक पहुंचे। अंतरराष्ट्रीय सैलानियों की संख्या के मामले में इसका तीसरा नंबर रहा।
loading…
Loading…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *