पटना जू प्रशासन ने बर्ड फ्लू के खतरे के कारण अगले आदेश तक संजय गांधी जैविक उद्ययान बंद करने का फैसला करते हुए चिड़ियाघर के बाहर एक पोस्टर चिपकाते हुए बताया है कि चिड़ियाघर को संक्रमणमुक्त करने तथा स्वच्छ होने तक अगले आदेश तक जू बंद रहेगा. पिछले सप्ताह 6 मोरों की अचानक मौत हो गयी थी. राष्ट्रीय उच्च सुरक्षा पशुरोग संस्थान, आनंद नगर, भोपाल द्वारा मृत मोर के परीक्षण में एवियन इंफ्लुन्जा पाया गया. इसी के मद्देनजर चिड़ियाघर को संक्रमणमुक्त करने तथा पूर्णतया स्वच्छ होने तक जू बंद रखने का निर्णय हुआ है. पटना जू प्रबंधन को 24 दिसंबर की शाम में भोपाल से आया जांच रिपोर्ट मिला, जिसमें बर्ड फ्लू के संकेत मिले थे. रिपोर्ट पर तुरंत एक्शन लेते हुए 25 दिसंबर से ही चिड़ियाघर आम नागरिकों के लिए बंद करने का फैसला किया गया. 25 दिसंबर को क्रिसमस के मौके पर यहाँ घूमने आए हजारों लोग एकाएक नोटिस देखकर निराश वापस लौटने को मजबूर हुए. घूमने आने वालों के अलावे यहां हर रोज सैकड़ों लोग मार्निंग वाक करने भी आते हैं. उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने बताया कि वहाँ जितने भी पिंजड़े हैं उन सबके सहित पूरे क्षेत्र को सेनेटाइज करने के बाद पुनः चिड़ियाघर खोलने का निर्णय होगा. मोदी ने कहा कि 5 दिन के अंदर मृत पाए गए 6 मोरों का पोस्टमार्टम पटना में कराने के बाद उसके ‘कारकस’ की जांच में बर्ड फ्लू का एच-5 एन-1 वायरस पाया गया. इस वायरस के बाघ, जेबरा और तेन्दुआ आदि में भी फैलने का खतरा है. इसलिए तत्काल प्रभाव से उद्यान्न को बंद करने का निर्णय लिया गया है. श्री मोदी ने क्रिसमस और नए साल के मौके पर होने वाली असुविधा के लिए दर्शकों से सहयोग की अपील करते हुए कहा कि जैसे ही स्थिति सामान्य होगी उद्यान्न को खोला जायेगा. इस दौरान अग्रिम टिकट बुक करा चुके दर्शक चाहें तो अपने टिकट को विस्तारित या रिफंड करा सकते हैं.
loading…
Loading…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *