शिक्षा विभाग ने पूर्वी चंपारण और वैशाली के एक- एक उच्च विद्यालयों के प्रधानाचार्यों को निलंबित कर दिया है. इनपर जाति आधारित वर्ग चलाने और जाति-धर्म के आधार पर कोटियों में बांटकर अलग-अलग रजिस्टर में हाजिरी बनाने का आरोप है. माध्यमिक शिक्षा निदेशक गिरिवर दयाल सिंह ने इस संदर्भ में आदेश जारी किया है. पूर्वी चंपारण के कल्याणपुर प्रखंड स्थित तेनुआ उच्च विद्यालय में छात्रों की जाति के आधार पर इन्हें अलग-अलग कोटियों में बांटकर इनकी अलग हाजिरी रजिस्टर तैयार करके रखी गयी थी और इसके आधार पर ही हाजिरी बनायी जाती थी. जबकि विद्यालय में नामांकित छात्र- छात्राओं की जातीय आधार पर बांटकर उपस्थिति पंजी तैयार करना विभागीय नियमों के विरुद्ध है. विभागीय आदेश की पूरी तरह से अवहेलना करने का दोषी पाते हुए विद्यालय के प्रभारी प्रधानाध्यापक कमलेश कुमार स्वावलंबी को निलंबित कर दिया गया है. निलंबन अवधि में इनका मुख्यालय पूर्वी चंपारण स्थित जिला शिक्षा पदाधिकारी का कार्यालय होगा. वैशाली जिले के लालगंज प्रखंड के जीए उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के वर्ग 9 और 10 में नामांकित छात्र- छात्राओं को जाति-धर्म के आधार पर कोटियों में बांटकर हाजिरी रजिस्टर तैयार किया गया था तथा यहां धार्मिक और जातीय आधार पर क्लास भी चलाया जाता रहा है. इस तरह का विभाग की तरफ से कोई आदेश कभी भी जारी नहीं हुआ था, प्रधानाध्यापिका ने अपने स्तर से यह नियम बनाकर इसे स्कूल में लागू कर दिया था. इस विद्यालय की प्रधानाध्यापिका मीना कुमारी को भी निलंबित कर दिया गया है.
loading…
Loading…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *