ऑनलाइन बैंकिंग की वजह से लेन-देन की प्रक्रिया बहुत आसान हो गई है. इसी वजह से यह बहुत तेजी से लोकप्रिय हो रही है. किसी के अकाउंट पर पैसा जमा करना मिनटों का काम हो गया है. इसके लिए किसी बैंक जाने की जरूरत नहीं रह गई है. दिन हो या रात, ऑनलाइन बैंकिंग के जरिए किसी भी अकाउंट पर रियल टाइम में पैसा ट्रांसफर किया जा रहा है. लेकिन, टेक्नोलॉजी जितनी एडवांस होती है, सावधानी की भी उतनी ही जरूरत होती है. क्योंकि जरा सी चूक की वजह से पैसा किसी और के अकाउंट पर ट्रांसफर हो सकता है. ऐसे में अगर आपने किसी गलत अकाउंट पर पैसा ट्रांसफर कर दिया है तो जानिए कैसे पैसा वापस आ सकता है. अपने बैंक को जानकारी दें गलत अकाउंट में पैसा ट्रांसफर होने पर, सबसे पहले अपने बैंक को इसकी सूचना देनी चाहिए. यह सूचना आप मेल या फोन कर दे सकते हैं. इसके लिए अपना अकाउंटर नंबर, मोबाइल नंबर, ट्रांजैक्शन का स्क्रीन शॉट, जिस नंबर पर गलती से पैसे ट्रांसफर हो गए हैं, ये सभी जानकारी आपको अपने बैंक से साझा करनी है. अपने बैंक से सभी जानकारी साझा करने के बाद जिस बैंक अकाउंट में गलती से पैसे ट्रांसफर हो गए हैं, उस बैंक में जाकर इसकी शिकायत करें. RBI के निर्देश के मुताबिक, किसी भी बैंक को यह हक नहीं है कि अपने ग्राहक की अनुमति के बिना वह उनके अकाउंट से किसी तरह का ट्रांजैक्शन करे. साथ ही वह अपने ग्राहक की सूचना भी किसी अन्य से साझा नहीं कर सकते हैं. ऐसे में आपकी शिकायत पर संबंधित बैंक उस अकाउंट होल्डर से पैसे वापस करने की अनुमति मांगेगा. अनुमति मिलने के बाद ही ट्रांजैक्शन को रिवर्ट किया जाएगा. अगर वह अकाउंटर होल्डर पैसा नहीं रिटर्न करना चाहता है तो आप कानूनी सहारा ले सकते हैं. आपकी अपील पर आपका बैंक संबंधित अकाउंट होल्डर के खिलाफ मामला दर्ज करवाएगा. रिजर्व बैंक का यह स्पष्ट निर्देश है कि, अगर गलती से किसी दूसरे अकाउंट में पैसा ट्रांसफर हो गया है तो बैंक आपके बदले जल्द से जल्द कदम उठाएगा. यह जिम्मेदारी आपके बैंक की है कि वह ट्रांजैक्शन को रिवर्ट करने की पूरी कोशिश और व्यवस्था करे. कैसे होता है ऑनलाइन ट्रांसफर किसी भी अकाउंट पर दो तरीके-NEFT और RTGS से पैसे ट्रांसफर होते हैं. जिस अकाउंट पर पैसे ट्रांसफर करने हैं पहले उसे अपने अकाउंटर से लिंक करें. अकाउंट लिंक होने के बाद किसी भी वक्त पैसे ट्रांसफर किए जा सकते हैं.
loading…
Loading…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *