पंजाब सरकार के मंत्री व पूर्व क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्धू पर अब पंजाब में तख्तापलट करने का गंभीर आरोप लगा है. प्रदेश के खेल मंत्री राणा गुरमीत ने सिद्धू पर आरोप लगाया है कि पिछले दो-तीन दिनों से वो जिस तरह की बयानबाजी कर रहे हैं, उससे संकेत मिल रहे हैं कि वह पंजाब में तख्तापलट करना चाहते हैं. खेल मंत्री ने आरोप लगाया कि वह मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को कुर्सी से हटाकर खुद इस पद पर बैठना चाहते हैं. ज्ञात है कि पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के मना करने के बावजूद नवजोत सिंह सिद्धू करतारपुर कॉरिडोर की नींव रखने के लिए पाकिस्तान के बुलावे पर वहां गए थे. वहां से लौटने के बाद जब पत्रकारों ने उनसे इस संदर्भ में पूछा तो सिद्धू ने कहा था कि वह कांग्रेस के कैप्टन राहुल गांधी की इजाजत पर पाकिस्तान गए थे. राणा गुरमीत ने कहा है कि सिद्धू कहते हैं कि उन्हें कांग्रेस के कैप्टन ने पाकिस्तान जाने को कहा था, लेकिन उन्हें मालूम होना चाहिए कि वह पंजाब सरकार के मंत्री हैं. ऐसे में उनके कैप्टन मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह हैं. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की रजामंदी से ही ये मुख्यमंत्री बने हैं. ऐसे में सिद्धू का अमरिंदर सिंह को कैप्टन नहीं मानना उनकी मंशा को जाहिर करता है. सिद्धू को समझना चाहिए कि वे अभी भी अमरिंदर सिंह की मर्जी के चलते ही मंत्री हैं. सिद्धू को जान लेना चाहिए कि केंद्र और राज्य में पार्टी एक है, कोई भी इससे अलग नहीं है. उधर सिद्धू के बयान पर मचे घमासान के बीच उनकी विधायक पत्नी नवजोत कौर ने सिद्धू के बचाव कहा कि नवजोत ने कई बार कहा है कि वह कैप्टन साहब का सम्मान करते हैं, कैप्टन साहब उनके पिता समान हैं. सिद्धू के पूरे बयान को पढ़ा और समझा जाना चाहिए, जिसे आधा-अधूरा प्रस्तुत किया जा रहा है. पंजाब में मुख्य विपक्षी दल शिरोमणी अकाली दल ने इस पूरे घटनाक्रम पर कहा है कि नवजोत सिंह सिद्धू को मुख्यमंत्री बनने की जल्दी है, इसलिए वह मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह की बातें नहीं मान रहे हैं. साथ ही दल ने इसे कांग्रेस का अंदरुनी मामला बताते हुए इसपर ज्यादा कुछ नहीं बोलने की बात कही. सिद्धू निजी स्तर पर करतारपुर कॉरिकोडर की नींव रखे जाने वाले कार्यक्रम में शामिल होने पाकिस्तान गए थे. जहाँ सिद्धू ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की काफी तारीफ की थी. इसके अलावा खालिस्तान समर्थक आतंकी गोपाल चावला के साथ सिद्धू की तस्वीर मीडिया में आई थी, जिसपर काफी विवाद हो रहा है.
loading…
Loading…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *