बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने साफ किया है कि वो 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव में PM पद की दौड़ में नहीं हैं। CM ने लालू प्रसाद पर भाजपा या सुशील मोदी के लगाए आरोप पर कुछ भी बोलने से इंकार करते हुए कहा कि लालूजी स्वयं उसका अपने तरीके से जवाब दे रहे हैं। सोमवार को लोक संवाद कार्यक्रम के बाद कुमार ने कहा कि मैं इतना नासमझ नहीं जो पाॅलिटिक्स की हकीकत नहीं समझूं। हमारी पार्टी एक छोटा दल है और हम इस जमीनी हकीकत को समझते हैं। मैं 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव में PM पद की दौड़ में नहीं हूँ। जिस किसी में पार्टी या गठबंधन की अगुआई करने की काबीलियत होगी और जो देश की जनता की उम्मीदों को पूरा कर सकता है वह PM बन सकता है। जनता को किसमें क्षमता दिखेगी और वह किसका साथ देगी, यह कौन जानता है? 2014 के लोकसभा चुनाव में मोदी प्रधानमंत्री बनने में कामयाब हो गए। पांच साल पहले नरेन्द्र मोदी को कौन जानता था, लेकिन जनता को उनमें क्षमता दिखी, लोगों को लगा कि मोदी उनकी उम्मीदों को पूरा कर सकते हैं, तो वो प्रधानमंत्री बन गए। मुख्यमंत्री ने कहा कि राष्ट्रपति चुनाव को लेकर केंद्र सरकार को सहमति बनानी चाहिए। अगर प्रणब मुखर्जी को दोबारा बना दिया जाए तो यह अच्छी बात है। यह तो केंद्र सरकार को सोचना चाहिए। EVM विवाद पर कहा कि इसके बारे में लोगों को शक है तो उन्हें जागरूक करना चाहिए। मैंने भी वोट दिया था, जिसको वोट दिया था, उसकी ही पर्ची मिली थी। उन्होंने कहा कि यदि बेनामी संपत्ति के मामले में किसी के पास तथ्य है तो वह कानून का सहारा लेl साथ ही कहा कि कंपनी लॉ बिहार से संबंधित नहीं है और इसमें हमारा कोई रोल नहीं हैl उन्होंने कहा कि बिहार में पहली बार शुरू हुआ है कि बिहार के मंत्री, विधायक और विधान पार्षद सहित सी ग्रुप के कर्मचारी से लेकर अधिकारी तक अपनी संपत्ति का ब्योरा सरकार को दे रहे हैंl हालांकि, यह कानूनी रूप से संबंधित नहीं है, संपत्ति का मामला मोरल से जुड़ा हुआ हैl उन्होंने कहा कि दूसरे प्रकार से लोगों का दिमाग डायवर्ट किया जा रहा है, बेवजह की चर्चा फैलाने की साजिश हो रही हैl सिर्फ बयानबाजी और मीडिया में आने का क्या मतलब हैl मुझे आरोप-प्रत्यारोप से कोई मतलब नहीं, मुझे सिर्फ बिहार की चिंता हैl नीतीश कुमार ने कहा कि जदयू और राजद एक पार्टी नहीं है, यह बिहार में सरकार चलाने के लिए मुद्दों पर आधारित एक महागठबंधन हैl दोनों पार्टियों की अपनी-अपनी विचारधारा है, कई मुद्दों पर दोनों की अलग-अलग राय हैl ताज़ा अपडेट पाने के लिए हमारे पेज को लाइक करें
loading…
Loading…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *