ब्रिटेन में रहने वाली भारतीय मूल की 12 साल की राजगौरी पवार का दिमाग साइंटिस्ट अलबर्ट आइंस्टीन और स्टीफन हॉकिंग से भी तेज है। दुनिया की सबसे बड़ी और पुरानी Mensa सोसाइटी के आईक्यू टेस्ट में दोनों मशहूर साइंटिस्टों को 160 प्वाइंट मिले थे, जबकि राजगौरी ने 162 प्वाइंट्स हासिल किए। अब राजगौरी को सोसाइटी में मेंबर बनाया गया है। अप्रैल में मैनचेस्टर में ‘ब्रिटिशर मेन्सा आईक्यू टेस्ट’ में शामिल हुई राजगौरी ने 162 प्वाइंट्स हासिल किए। जो 18 साल से कम उम्र के लिए सबसे ज्यादा है। इस तरह उसने आइंस्टीन और हॉकिंग को पीछे छोड़ दिया और उसे 2 प्वाइंट्स ज्यादा मिले। राजगौरी ने 2011 में हैंडराइटिंग के लिए भी अवॉर्ड जीता था। पिछले साल अगस्त में 10 साल के भारतीय लड़के ध्रुव ने आइंस्टीन और हॉकिंग का रिकॉर्ड तोड़ा था। लदंन में रहने वाला ध्रुव IQ टेस्ट में 162 प्वाइंट्स हासिल कर दुनिया के चुनिंदा लोगों में शामिल हुआ था। टेस्ट में ध्रुव ने 150 सवालों का सामना किया था। इस टेस्ट में एडल्ट के लिए मैक्सिमम स्कोर 161 और 18 से कम उम्र के बच्चों के लिए 162 है। दिसंबर, 2015 में अनुष्का विनय (10 साल) को भी इसी टेस्ट में 162 प्वाइंट मिले थे। उसके पिता ब्रिटेन में आईटी कंसल्टेंट हैं और केरल के रहने वाले हैं। राजगौरी के पिता डा० सूरज पवार ने बेटी के अचीवमेंट पर कहा कि यह उसके शिक्षकों के प्रयासों के बिना संभव नहीं होता, मेरी बेटी को स्कूल से पूरा सहयोग मिला है। Mensa सोसाइटी ने भी कहा है कि भारतीय मूल की इस लड़की का आईक्यू काफी अच्छा है।
loading…
Loading…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *