राष्ट्रपति चुनाव के लिए संयुक्त विपक्ष की ओर से दमदार प्रत्याशी खड़ा करने की दिशा में कांग्रेस ने अपने प्रयास तेज कर दिए हैंl कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कई विपक्षी नेताओं से इस संदर्भ में बातचीत शुरू कर दी हैl सोनिया गांधी ममता बनर्जी, मुलायम सिंह, और लालू यादव से फोन पर बात कर चुकी हैंl सोनिया गांधी जल्दी ही मायावती से मुलाकात करने वाली हैंl इसी सिलसिले में नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला दिल्ली में सोनिया गांधी मिले हैंl उधर राहुल गांधी ने अखिलेश यादव और शरद पवार से फोन पर बातचीत किया, जल्दी ही राहुल गांधी और ममता बनर्जी की मुलाकात होने वाली हैl डीएमके नेता के स्टालिन से भी कांग्रेस नेतृत्व मिलने वाला हैl बताया जाता है कि इन मुलाकातों के बाद सभी एक साथ मीटिंग करेंगेl राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति के सयुंक्त उम्मीदवारी पर चर्चा के दौरान गैर राजनीतिक व्यक्तियों के नाम पर भी विचार विमर्श चल रहा हैl बताया जाता है कि कांग्रेस नेतृत्व सभी गैर भाजपा दलों से बात करने की योजना पर काम कर रहा हैl इसी क्रम में कांग्रेस नेतृत्व AAP और BJD से भी चर्चा करेगाl इसके पूर्व भी सोनिया गाँधी और राहुल गाँधी अलग-अलग सीताराम येचुरी, डी राजा, नीतीश कुमार, शरद यादव, शरद पवार आदि से मुलाकात कर चुके हैंl कांग्रेस का मानना है कि वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पूर्व प्रधानमंत्री मोरार जी देसाई और वाजपेयीजी से अलग सोच रखने वाले व्यक्ति हैंl मोदी विपक्ष मुक्त भारत चाहते हैं और यह उम्मीद कत्तई नहीं कि वह आम सहमति बनाने का कोई प्रयास करेंगेl एक विचारधारा और एक ही व्यक्ति का फैसला थोपने के खिलाफ लड़ाई में कांग्रेस सबको साथ लाने की कोशिश कर रही हैl इन कोशिशों के तहत कांग्रेस तमाम विपक्षी दलों से बात कर राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति के चुनाव में संयुक्त उम्मीदवार उतारने की रणनीति पर काम कर रही हैl. हाँलाकि पार्टी के एक खेमा का मानना है कि अगर एनडीए राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के नाम पर तैयार हो जाये तो आम सहमति बनायी जा सकती हैl सूत्रों का कहना है कि शरद यादव और शरद पवार के नाम पर भी चर्चा हुई हैl हालांकि पवार के करीबी सूत्रों के अनुसार वो राष्ट्रपति या उपराष्ट्रपति का चुनाव नहीं लड़ना चाहते हैंl कांग्रेस समझती है कि नंबर गेम में वो काफी पीछे हैl इसलिए एक विचारधारा और एक व्यक्ति (मोदी) का फैसला थोपने के खिलाफ सबको साथ लाने का प्रयास कर रही हैl कांग्रेस द्वारा इसे भविष्य में महागठबंधन बनाये जाने की पृष्ठभूमि के रूप में भी देखा जा रहा हैl कांग्रेस के मीडिया प्रभारी रणदीप सुरेजवाला ने भी स्वीकार किया कि कांग्रेस नेतृत्व द्वारा तमाम विपक्षी नेताओं के साथ मिलकर राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति चुनाव में संयुक्त उम्मीदवार उतारने पर बात की जा रही हैl लोकसभा और राज्यसभा के 771 सांसदों के 5 लाख 45 हजार 868 और पूरे देश में 4120 विधायकों के 5 लाख 47 हजार 786 कुल वोट 10 लाख 93 हजार 654 हैंl जीत के लिए 5 लाख 46 हजार 828 वोट की आवश्यकता हैl एनडीए लोकसभा, राज्यसभा और पूरे देश में अपने विधायकों के वोट की बदौलत 5 लाख 46 हजार 828 वोट पाने में सक्षम नहीं है और कांग्रेस संयुक्त विपक्ष के साथ यहीं चोट करना चाहती हैl
loading…
Loading…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *