विश्व सांस्कृतिक महोत्सव को ‘कला का कुंभ मेला’ करार देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि बारिश भी आयोजकों की ‘परीक्षा’ ले रही थी। मोदी ने कहा कि लेकिन यह आर्ट ऑफ लिविंग है। ऑर्ट ऑफ लिविंग का मतलब आरामतलबी और सहूलियतों के बीच जीना नहीं है। जब हम अपने विचारों के साथ आगे बढ़ते हैं तो यह आर्ट ऑफ लिविंग होती है। जब हम अपने सपनों को जीते हैं तो यह आर्ट ऑफ लिविंग होती है। जब हम चुनौतियों से निपटते हैं तो यह आर्ट ऑफ लिविंग होती है। जब हम खुद के लिए जीने की बजाय दूसरों के लिए जीते हैं तो यह आर्ट ऑफ लिविंग होती है।’ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से श्री श्री रविशंकर की तारीफ के साथ यमुना तट पर शुरु हुए विवादित विश्व सांस्कृतिक महोत्सव में प्रधानमंत्री ने भारतीयों से कहा कि उन्हें अपनी सांस्कृतिक विरासत पर गर्व होना चाहिए। उन्होंने कहा कि रविशंकर ने दुनिया से भारत का ‘परिचय’ कराया है। इस बाबत रविशंकर के प्रयासों की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि भारत के पास सांस्कृतिक विरासत और समृद्धि है जिसे पूरी दुनिया देख रही है। हम उन जरूरतों को पूरा कर सकते हैं लेकिन यह तभी हो सकता है जब हम अपनी विरासत पर गर्व करें। यदि हम इसे कोसते रहेंगे तो दुनिया हमारी ओर क्यों देखेगी। इस तीन दिवसीय सांस्कृतिक कार्यक्रम में कई देशों से आया शिष्टमंडल और हजारों लोग हिस्सा ले रहे हैं। मोदी ने इस कार्यक्रम में तीन घंटे बिताए। मोदी के संबोधन में ज्यादा जोर एक ऐसे दर्शक समूह के सामने भारतीय संस्कृति और विरासत को बढ़ावा देने पर था जिसमें यूएई, अर्जेंटिना, पाकिस्तान, नेपाल सहित कई अन्य देशों के लोग मौजूद थे। रविशंकर की कोशिशों की तारीफ करते हुए मोदी ने कहा, ‘ऐसा नहीं है कि दुनिया सिर्फ आर्थिक हितों से जुड़ी हुई है। यह मानवीय मूल्यों के जरिए भी जुड़ सकती है। ऐसा किया जा सकता है, ऐसा किया जाना चाहिए।’ मोदी ने कहा, ‘भारत के पास ऐसी सांस्कृतिक विरासत और समृद्धि है जिसे दुनिया तलाश रही है। हम उन जरूरतों को पूरा कर सकते हैं…लेकिन यह तभी हो सकता है जब हमें अपनी विरासत पर गर्व हो। यदि हम इसे कोसते रहेंगे तो दुनिया हमारी तरफ क्यों देखेगी।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *